Ad2
Banner1

कड़ाके की ठंड से कांपते हुए स्कूल पहुंच रहे नौनिहाल, नही हुई शीतकालीन अवकाश की घोषणा।

कड़ाके की ठंड से कांपते हुए स्कूल पहुंच रहे नौनिहाल, नही हुई शीतकालीन अवकाश की घोषणा।

जुबेर निजामी की रिपोर्ट 

अलीराजपुर ठंड ने दस्तक दे दी है, लेकिन किसी को स्कूलों में बच्चों की कोई फिक्र नहीं है। अभी तक नियम के अनुसार सर्दी शुरू होते ही शीतकालीन अवकाश नही हुए है ना ही स्कूल में समय का परिवर्तन किया गया है मौजूदा सत्र में ठंड आगाज पर कोई गौर नहीं किया गया है।क्षेत्र भर में विगत सप्ताहभर से शीतलहर का प्रभाव बढ़ने की वजह से ठंड तेज हो गई है, लेकिन सुबह जल्दी उठकर स्कूल जाने वाले बच्चों का अभी तक समय नहीं बदला गया है। इससे छोटे बच्चों को सर्दी से संघर्ष करते हुए सुबह स्कूल जाने में खासी परेशानी हो रही है।

ठंडी हवाओं की गिरफ्त में आकर बच्चे बीमार भी होने लगे हैं ठंडी हवाएं भी अपना प्रभाव छोड़ रही है। ऐसे में ही नगर एवं क्षेत्र के कई स्कूल सुबह 8 बजे लग रहे हैं। ठिठुरने के कारण छात्रों की हालत भी खस्ता बनी हुई है। इसके बावजूद भी ये स्कूल अपने समय सारिणी में कोई सुधार नहीं कर रहे हैं। अभिभावक भी इस समय को बदलने की बात कर रहे हैं, लेकिन प्रशासन के द्वारा भी इस ओर कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है। पालकों का कहना है कि पिछले साल ठंड शुरू होते ही स्कूलों के समय में परिवर्तन किया गया था। इस बार भी अधिकारियों को जल्द ही समय बदलाव पर निर्णय लेना चाहिए। कारण है कि सुबह बच्चों को स्कूल भेजने का प्रयास करो तो तत्काल उनका रोना शुरू हो जाता है। अभिभावक बमुश्किल बच्चों को स्कूल भेज पाते हैं।बच्चों को सबसे ज्यादा दिक्कत स्कूल जाते हुए:सर्दी बढ़ने से सबसे ज्यादा दिक्कत छोटे बच्चों को स्कूल जाने में हो रही है और स्कूल का समय परिवर्तन नहीं होने के कारण बच्चों को शीतलहरों से संघर्ष करते हुए स्कूल जाना पड़ रहा है।

इधर.. मौसम विभाग आगामी दिनों में पारा गिरने की संभावना जता रहा है, जिससे स्कूली बच्चों की परेशानी ओर बढ़ती दिखाई दे रही है। इसे लेकर अभिभावकों ने प्रशासन से समय बढ़ाने की मांग की है। अभिभावकों का यह भी कहना है कि प्रशासन प्रतिवर्ष शीतलहर बढ़ने और तापमान बहुत कम होने पर शीतकालीन अवकाश घोषित करता है वही स्कूल समय परिवर्तित करता है लेकिन उसके पहले ही सर्दी की गिरफ्त में आकर छोटे बच्चों को शारीरिक अस्वस्थता का सामना करने पर मजूबर होना पड़ता है। इसलिए तापमान में ज्यादा गिरावट का इंतजार करने के पहले ही प्रशासन को समय परिवर्तन की पहल कर देना चाहिए ताकि मासूमों को राहत मिल सके।

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +918962423252

श्री राम गोशाला में हुआ मुंडन संस्कार, अपूर्व जगदीश गुप्ता के द्वारा पुत्र अर्थिव गुप्ता का तुलादान व धूमधाम से गौ माता की आरती की गई     |     जिले मे शिक्षक की बेटी ने मप्र लोक सेवाआयोग द्वारा आयोजित आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारी मे प्रदेश मे प्रथम स्थान पाया।     |     खंडवा बड़ौदा मार्ग पर फाटा के समीप भूरघाटी में हुआ हादसा, फार्रच्युनर हुई चकनाचूर, चार घायल, नगर में शौक का माहौल     |     मरीजों के स्वास्थ्य में किसी प्रकार की कोताई बर्दास्त नहीं की जाएगी-विधायक पटेल     |     असंतुलित होकर फुलझरी नाले मे पुलिया के निचे आईसर गिरी, आऐ दिन होती है दुर्घटना।     |     नर्मदे हर के जयकारो से गुंजामय हुआ ककराना तट , मॉं नर्मदा मैया को चढ़ाई 551 मीटर चुनरी।     |     विधायक पटेल ने अग्नि पीड़ित परिवार को घेरेलु सामग्री ओर सहायता राशि प्रदान की     |     पैसा नियम में मिले अधिकार से ग्राम सभा के माध्यम से गांव को सांस्कृतिक, सामाजिक व आर्थिक रूप से किस प्रकार से सशक्त किया जाए।     |     गुजरात मजदूरी करने गए तीन किसानों की करंट लगने से मौत,ट्रैक्टर में बैठकर खेत पर जाने के दौरान हुई घटना     |     आदिवासी बाहुल्य जिले से हुआ ISPL मे चयन जिले मे हर्ष तो जिला कलेक्टर ने सम्मानित कर किया आर्थिक सहयोग।     |