Ad2
Banner1

नर्मदा नदी अगले पचास साल में खत्म हो जाएगा

बड़वानी नर्मदा घाटी : आज और कल की चुनौतियां पर नर्मदा बचाओ आंदोलन द्वारा बङवानी में दिनांक 07 जून 2023 को कार्यक्रम आयोजित था।जिसमें प्रसिद्ध पर्यावरणविद सुभाष पांडे,सुप्रसिद्ध खेती विशेषज्ञ अरूण डीके,वरिष्ठ पत्रकार और चिंतक रामस्वरूप मंत्री,नर्मदा बचाओ आंदोलन की नेत्री मेधा पाटकर, बरगी बांध विस्थापित एवं प्रभावित संघ के राज कुमार सिन्हा और भोपाल के पार्षद मोहम्मद शाउफ एवं पत्रकारअशरफ तिरंगा सोशल ग्रुप बड़वानी जिले के जिला पेंशनर अध्यक्ष विजय कुमार जैन रिटायर्ड चीफ मेडिकल ऑफिसर डॉक्टर अब्दुल रशीद पटेल समाजसेवी गुरदीप सिंह गांधी समाजसेवी अब्दुल सादिक चंदेरी शामिल थे। कार्यक्रम की भूमिका रखते हुए मेधा पाटकर ने कहा कि नर्मदा घाटी दुनिया की सबसे पुरानी घाटी है,जहां आदिमानव और एशिया खंड के पहले किसान का भी जन्म हुआ था।यह पुरातत्व शास्त्री के शोध में निकलकर आया है।नर्मदा पर निर्मित सिंचाई और बिजली परियोजनाओ के लाभ – हानि का दावा सबंधि तथ्य प्रदेश के समक्ष लाना आवश्यक है।आज नर्मदा घाटी में पीढियों से निवास कर रहे किसान, मजदूर, पशुपालक, मछुआरे और आदिवासी समुदाय के लोग विकास परियोजनाओ से हैरान परेशान हैं।पर्यावरणविद सुभाष पाण्डेय ने कहा कि समाचार पत्रों में यह हेडलाइन बनाया जाता है कि नर्मदा 75 प्रतिशत साफ हो गया है जबकि सरकारी दस्तावेज और अलग- अलग जगहों से लिया गया नर्मदा जल की जांच रिपोर्ट से कुछ अलग ही जानकारी प्राप्त हो रहा है।मैनें रेत खनन, नर्मदा कछार से खत्म होते जंगल, शहरों एवं फैक्ट्री का नर्मदा गंदा पानी नर्मदा में मिलने जैसी सैकङो प्रकरण हरित न्याय प्राधिकरण में दायर किया हूं और पर्यावरणीय अनुकूल आदेश भी मिला है।परन्तु व्यवस्था इन सभी आदेशों पर अमल करने की जगह कुतर्क गढने लगता है।उन्होने कहा कि अगर यही स्थिति रहा तो अगले पचास साल बाद नर्मदा खत्म हो जाएगा।खेती विशेषज्ञ अरूण डीके ने कहा कि खेतों में रसायनिक खाद्य और कीटनाशक बंद कर जैविक खाद्य और कीटनाशक डालना ही जैविक खेती नहीं है।हवा,पानी, धूप के प्रकाश और वातावरण प्रदूषित कर जैविक नहीं हो सकता है।उन्होने कहा कि कृषि विषय पर इंजीनियरिंग की पढ़ाई किया हुआ है।जब 1940 में अल्बर्ट हावर्ड की लिखी पुस्तक “खेती का वसीयतनामा ” पढा तो समझ आया कि मैं गलत दिशा में जा रहा हूं।आज लगभग तीस साल से जैविक खेती करने के बाद आपको यह बात बताने की स्थिति में हूं।हमारा खेती,समाज और गांव को भी जैविक होना होगा तब ही वर्तमान जलवायू परिवर्तन जैसे वैश्विक संकट से बच सकते हैं।बरगी बांध विस्थापित एवं प्रभावित संघ के राज कुमार सिन्ह ने कहा कि नर्मदा में 165 एमएलडी गंदा पानी प्रतिदिन दिन मिल रहा है।जिसमें सबसे ज्यादा 136 एमएलडी प्रतिदिन का योगदान जबलपुर के 200 डेयरियां का 20 लाख लीटर मलमुत्र, 10 लाख लीटर रेलवे का गंदा पानी ,25 हजार घरों की गंदगी,175 से ज्यादा अस्पतालों का संक्रमित पानी,600 छोटे -बङे गैराज व वाशिंग सेंटर का है।इनसे 30 लाख लीटर प्रति घंटा गंदा पानी नर्मदा में मिल रहा है।जबकि 4.5 लाख लीटर प्रति घंटा नगर निगम के वाटर ट्रिटमेंट की क्षमता है।इसी नर्मदा किनारे 22460 मेगावाट की थर्मल पावर प्लांट और 2800 मेगावाट की चुटका परमाणु बिजलीघर प्रस्तावित है।जिसमें 6900 मेगावाट की बिजलीघर पहली ईकाई बनाकर निर्माण प्रारम्भ कर दिया गया है।ज्ञात हो कि 1 मेगावाट बिजली उत्पादन के लिए 3238 लीटर पानी और 0.70 टन कोयला प्रति घटा लगता है। बिजली उत्पादन से 40 प्रतिशत बने राख नर्मदा को राख से खाक में बदल देगा।वरिष्ठ पत्रकार राम स्वरूप मंत्री ने अपने उद्बोधन में कहा कि नर्मदा की वर्तमान परिस्थिति को आमजन तक ले जान की आवश्यकता है।इसके लिए नर्मदा यात्रा के माध्यम से घाटी के लोगों से संवाद स्थापित करना होगा।मालवा की धरती गहन गंभीर पग- पग रोटी डग – डग नीर की कहावत उस समय की सम्पन्नता को दर्शाता है परन्तु अब परिस्थिति ऐसी हो गई है कि पानी उधार लेना पङ रहा है। अगर हम अभी सचेत नहीं हुए तो हालात और गंभीर होने वाली है।कार्यक्रम में घाटी की श्यामा बाई मछुआरा,दयाराम यादव, गोखरू, नूरजी वसावा ,सियाराम, हरिओम ने भी बात रखी।कार्यक्रम का संचालन वाहिद मंसूरी ने किया।
राज कुमार सिन्हा बरगी बांध विस्थापित एवं प्रभावित संघ

पत्रकार बंधु भारत के किसी भी क्षेत्र से जुड़ने के लिए इस नम्बर पर सम्पर्क करें- +918962423252

सहायक जेल अधीक्षक एवं जेल प्रहरी के पदों हेतु शारीरिक नाप जोख एवं प्रवीणता टेस्ट विषयक     |     ज्वेलरी शॉप पर हुई सनसनीखेज डकैती का फ़रार बदमाश सोमला पिता बदन सिंह गिरफ्तार      |     कुत्तों का आतंक दो लोगो को किया गंभीर घायल 80 वर्षीय बुजुर्ग लहित बच्चे को बुरी तरह काटा, देखे कहा का है मामला।     |     बेटी व दामाद से जान का खतरा बताकर 90 वर्षीय वृद्धा ने लगाई न्याय की गुहार।     |     यदि बिरसा मुंडा नहीं होते तो आज आदिवासी समाज के पास जल जंगल जमीन के विशेषाधिकार नहीं होते-आदिवासी समाज।     |     ग्राम धनपुर की ममता चौहान का सब रजिस्ट्रार के पद पर हुआ चयन, खबर लगते ही गांव एवं परिवार में खुशी की लहर छा गई।     |     हज यात्रियों का काफिला हुआ रवाना, समाजजनो ने स्वागत कर भावभीनी विदाई दी।     |     अचानक गाय के रोड पर आ जाने से दो बाइक आपस में भिड़ी,एक की मौत अन्य चार घायल।     |     मुकद्दस शफर हज पर जाने वाले हाजी सैयद सादात का किया इस्तकबाल, देश मे अमन-चैन की दुआ की की अपील।     |     पुलिस महानिदेशक महोदय श्री सुधीर सक्‍सेना के निर्देश पर अलीराजपुर पुलिस की बदमाशों पर सख्‍त कार्यवाही, रातभर चला नाईट कॉम्बिंग ऑपरेशन     |